Featured post

यथा दृष्टि तथा सृष्टि

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan जीवन जीने का वास्तविक तरीका यदि हम जान ले तो जीवन अपने आप सुन्दर हो जाएगा। हम अक्सर देखते ...

VOTE For India,

घोटालो का लगा अम्बार, 
 सोयी रही देश की सरकार।। .

बेरोजगारी ने उड़ाये होश,
सरकार का है युवा जोश।।

इकोनोमी की हालत पतली ,
ये  कहे   हर  हाथ  तररकी।।

महँगाई     की    पड़ी  ऐसी   मार ,
के जन जन को छुआ जनजीवन बदला। । 

आत्महत्या करता  देश का  किसान ,
 सरकार बोले हो रहा भारत निर्माण।। 

खोल दिए घोषणाओ के पिटारे,
घर घर आयेगे अब  ये सारे।।

धर्मनिरपेक्षता का ओढ़ के चोला ,
चेहरा  बनाया   कितना  भोला।।

ये नहीं  है  कोई  एक, 
रूप धरे है इसने अनेक।।

अब भी ना जगा देश तो,
फिर  बहुत   पछतायेंगे।।

विकास की दौड़ में ,
बहुत पीछे रह जाएगे।।

-AC

No comments:

Post a Comment