Featured post

भारतीय दर्शन और आधुनिक विज्ञान

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan भारतीय दर्शन विश्व के प्राचीनतम दर्शनो में से एक है इसमें अनेक वैज्ञानिक सिंद्धान्तो को प्रतिपादि...

भारतीय दर्शन और आधुनिक विज्ञान

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

भारतीय दर्शन विश्व के प्राचीनतम दर्शनो में से एक है इसमें अनेक वैज्ञानिक सिंद्धान्तो को प्रतिपादित किया गया है।हमारे ऋषियो को अगर प्राचीन समय का वैज्ञानिक कहा जाये तो ये अतिशयोक्ति नही होगी। परन्तु आधुनिकता की दौड़ और स्वयं को विकसित कहलाने की होड़ में हमने अपने उस प्राचीन दर्शन को किनारे कर दिया जबकि वो एक महान वैज्ञानिक दृष्टिकोण से परिपूर्ण दर्शन हैं।

अगर हम उस वैज्ञानिक दर्शन को समझकर उसका सहारा आधुनिक विज्ञान के विकास में ले तो हम भारतीय दर्शन के गूढ़ ज्ञान की सहायता से विज्ञान के नये आयामो को प्राप्त कर सकते है।

आज हम भारतीय दर्शन के एक सिद्धान्त की चर्चा आधुनिक विज्ञान के परिपेक्ष में करगे।

वो सिद्धान्त है प्रकृति और पुरूष का सिद्धान्त-

1.आधुनिक विज्ञान कहता है के ब्रह्माण्ड के सभी पदार्थों/ मैटर (matter) का निर्माण atom से हुआ है आधुनिक विज्ञान ने ये सिद्धान्त 18 वी शताब्दी में दिया वैसे तो यही सिद्धान्त 500 B. C. में महर्षि कणाद ने भी दिया था जिसमे उन्होंने उस तत्व को परमाणु कहा था।
परन्तु हम इससे भी पहले की बात कर रहे है संख्या दर्शन ने सभी पदार्थों के निर्माण का कारण प्रकृति को बताया। अगर हम कहे atom, परमाणु, प्रकृति एक ही चीज के नाम है तो ये गलत नही होगा क्योकि सभी सामान गुणों की ओर संकेत करते है।

2.भारतीये दर्शन के अनुसार प्रकृति त्रिगुणात्मक है जिसके तीन गुण है
रजोगुण, तमोगुण, सत्वगुण
यहाँ गुणों का अर्थ विशेषता नही है ये प्रकृति के ही भाग है।
आधुनिक विज्ञान में atom या परमाणु के तीन भाग है
इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन, न्यूट्रॉन

3. रजोगुण की प्रवृत्ति गत्यात्मक है अर्थात ये सदैव गतिमान है आधुनिक विज्ञान के अनुसार इलेक्ट्रॉन भी सदैव गतिमान रहता है।

तमोगुण में भार होता है , यह स्थिरता प्रदान करता है और रजोगुण के विपरीत गुणों वाला है।
अगर हम प्रोटॉन की बात करे तो ये इलेक्ट्रान के विपरीत गुणों वाला है एक धनात्मक है दूसरा ऋणात्मक । प्रोटोन इलेक्ट्रान को उसकी कक्षा में बाधे रखता है क्योंकि दोनों विपरीत आवेशित है अतः ये परमाणु को स्थिरता प्रदान करता है। इलेक्ट्रान का भार नगण्य होता है और उसकी तुलना में प्रोटोन में भार होता है।

तीसरा सत्वगुण जो तटस्थ  होता है यह तमोगुण और रजोगुण की साम्यावस्था को बनाये रखता है।
न्यूट्रोन में भी कोई आवेश नही होता यह नाभिक में प्रोटॉन के साथ रहकर नाभिकीय बल उतपन्न करता है और प्रोटॉन को नाभिक से बांधे रखता है और इलेक्ट्रान और प्रोटॉन के बीच साम्यावस्था बनाये रखता है इसी कारण विपरीत आवेशों के होने के बाद भी इलेक्ट्रॉन -प्रोटॉन एक दूसरे की और अकर्षित होकर आपस मे नही टकराते।

4. भारतीय दर्शन के अनुसार प्रकृति स्वयं से कुछ नही करती परंतु जब वो पुरुष के संपर्क में आती है तो उसकी साम्यावस्था भंग होती है और पदार्थ और सृस्टि का निर्माण होता है।

आधुनिक विज्ञान ने भी 2013 में एक परिकल्पना का प्रयोगात्मक सत्यापन किया जिसके अनुसार अलग अलग परमाणुओं को आपस मे जोड़कर अणु  को जन्म देने और  पदार्थ के निर्माण के पीछे एक और तत्व है जिसे उन्होंने नाम दिया " हिग्स बोसॉन " ये हिग्स बोसॉन परमाणु के लिए वही कार्ये करता है जो प्रकर्ति के लिए पुरूष।

5. भारतीय दर्शन में पुरूष का अर्थ आत्मा से होता है अर्थात आत्म तत्व को पुरूष कहा जाता है और यह आत्मा परमात्मा का अंश होती है।
आधुनिक विज्ञान में भी नए खोजे गए तत्व हिग्स बोसॉन को गॉड पार्टिकल (god particle) कहते है अर्थात आधुनिक विज्ञान के अनुसार भी वो ईश्वर का अंश है।

तो अभी तक जो हमने जो समझा क्या वो महज इत्तेफाक है या जो आज आधुनिक विज्ञान जान रहा है वो हमारे ऋषियों को पहले से पता था। जिसे उन्होंने भारतीय दर्शनो में समझाने का प्रयास किया। तो ऐसा क्या था उनके पास जो वो उन तथ्यों को भी जानते थे  जिसे आधुनिक विज्ञान अभी तक समझने का प्रयास कर रहा है तो क्यो न हम कहे के उस समय का विज्ञान आज के विज्ञान से कही ज्यादा विकसित था। परन्तु अपनी अज्ञानता के कारण हम उसे अवज्ञानिक मानकर नकार देते है जबकि आवश्यक है उन भारतीय दर्शन के सिद्धांतों पर शोध करने की ताकि उस महान ज्ञान के द्वारा हम आधुनिक विज्ञान को अधिक विकसित कर सम्पूर्ण जगत को लाभ पहुचा सके।

मेरी बातों पर विचार कीजिए और इसमें निहित विचारो को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये।

No comments:

Post a comment