7/8/18

The power of the mind, the science - Râja-Yoga

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

A man comes; you know he is very learned, his language is beautiful, and he speaks to you by the hour; but he does not make any impression. Another man comes, and he speaks a few words, not well arranged, ungrammatical perhaps; all the same, he makes an immense impression. Many of you have seen that. So it is evident that words alone cannot always produce an impression. Words, even thoughts contribute only one-third of the influence in making an impression, the man, two-thirds. What you call the personal magnetism of the man — that is what goes out and impresses you. 
   
 In our families there are the heads; some of them are successful, others are not. Why? We complain of others in our failures. The moment I am unsuccessful, I say, so-and-so is the cause of the failure. In failure, one does not like to confess one's own faults and weaknesses. Each person tries to hold himself faultless and lay the blame upon somebody or something else, or even on bad luck. When heads of families fail, they should ask themselves, why it is that some persons manage a family so well and others do not. Then you will find that the difference is owing to the man — his presence, his personality. 


Coming to great leaders of mankind, we always find that it was the personality of the man that counted. Now, take all the great authors of the past, the great thinkers. Really speaking, how many thoughts have they thought? Take all the writings that have been left to us by the past leaders of mankind; take each one of their books and appraise them. The real thoughts, new and genuine, that have been thought in this world up to this time, amount to only a handful. Read in their books the thoughts they have left to us. The authors do not appear to be giants to us, and yet we know that they were great giants in their days. What made them so? Not simply the thoughts they thought, neither the books they wrote, nor the speeches they made, it was something else that is now gone, that is their personality. As I have already remarked, the personality of the man is two-thirds, and his intellect, his words, are but one-third. It is the real man, the personality of the man, that runs through us. Our actions are but effects. Actions must come when the man is there; the effect is bound to follow the cause.

The ideal of all education, all training, should be this man-making. But, instead of that, we are always trying to polish up the outside. What use in polishing up the outside when there is no inside? The end and aim of all training is to make the man grow. The man who influences, who throws his magic, as it were, upon his fellow-beings, is a dynamo of power, and when that man is ready, he can do anything and everything he likes; that personality put upon anything will make it work.

Now, we see that though this is a fact, no physical laws that we know of will explain this. How can we explain it by chemical and physical knowledge? How much of oxygen, hydrogen, carbon, how many molecules in different positions, and how many cells, etc., etc. can explain this mysterious personality? And we still see, it is a fact, and not only that, it is the real man; and it is that man that lives and moves and works, it is that man that influences, moves his fellow-beings, and passes out, and his intellect and books and works are but traces left behind. Think of this. Compare the great teachers of religion with the great philosophers. The philosophers scarcely influenced anybody's inner man, and yet they wrote most marvellous books. The religious teachers, on the other hand, moved countries in their lifetime. The difference was made by personality. In the philosopher it is a faint personality that influences; in the great prophets it is tremendous. In the former we touch the intellect, in the latter we touch life. In the one case, it is simply a chemical process, putting certain chemical ingredients together which may gradually combine and under proper circumstances bring out a flash of light or may fail. In the other, it is like a torch that goes round quickly, lighting others.



The science of Yoga claims that it has discovered the laws which develop this personality, and by proper attention to those laws and methods, each one can grow and strengthen his personality 

they came to certain remarkable conclusions; that is, they made a science of it. They found out that all these, though extraordinary, are also natural; there is nothing supernatural. They are under laws just the same as any other physical phenomenon. It is not a freak of nature that a man is born with such powers. They can be systematically studied, practiced, and acquired. This science they call the science of Râja-Yoga.   


words from-

swami vivekananda

THE POWERS OF THE MIND
(Delivered at Los Angeles, California, January 8, 1900 )

19/7/18

Rishikesh, the yoga capital of the world

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

 Rishikesh , a beautiful city Located in the foothills of the Lower Himalayas, in the Tehri-Garhwal region of Uttarakhand, this holy town serves as a starting point for the other religious hubs in the state – Badrinath, Gangotri, Kedarnath and Yamunotri (part of the ‘Char Dham’ pilgrimage route) . also Known as yoga capital of the world. It is famous for yoga and meditation, pilgrimage and also hot destination for rafting and camping. 

For those who are looking for a break of the spiritual kind, Rishikesh has a host of ashrams and yoga centres, offering lessons in yoga and meditation, besides other spiritual activities. 
There are many yoga ashrams and all kind of yoga and meditation classes. Rishikesh is situated on the bank of river ganga at the foothills of Himalaya. It is one of the holiest place for hindus that's why many sages and saints and yoga masters have been visiting the city.and it is the yoga teacher training hub across the world. There are many ashram or yoga school which are providing yoga teacher training. Rishikesh is full of spiritual energy because of ganga and the Himalaya. Lush greenery , pure water and fresh air and untouched natural beauty make it more beautiful.

Rishikesh boasts of relatively pleasant weather all-year round – neither too hot nor too cold. Temperatures in summer (March to June) range from 20C to 35C, though they can – and occasionally do – touch 40 C in peak summer. During winters (October to February), temperatures reach a low of 5 C and a high of 20 C. The town’s climate is ideal for indulging in outdoor activities almost throughout the year


 Rishikesh is the home to some of the most reputed yoga school and ashram because of its such a rich rich yoga and spiritual heritage. 

Rishikesh also attract visitors for rafting and camping and for many adventure activity. Other places to visit here are Ram jhula, parmarth niketan, gita bhawan, triveni ghat, neelkanth temple etc.

 It is well connected with road , air and railway by different cities of india. Neatest airport is at jolly Grant airports in dehradun approximately 35 to 40 km Neatest railway station is rishikesh but you should choose haridwar which is well connected with other cities of india and is 20 km from rishikesh Rishikesh is well connected with Major cities via motorable road  
for any query , assistance contact contact@ankushchauhanblog.com

4/7/18

युवाओ की राष्ट्रनिर्माण में भूमिका

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

युवा किसी भी देश का भविष्य है। भारत एक ऐसा देश है जहाँ 65 % आबादी 35 वर्ष से कम है। तो आप समझ सकते है कि इस देश के लिये युवाओं का सही दिशा में कार्ये करना कितना महत्वपूर्ण है।
हमारी सरकारें भी इस बात से भली भांति परिचित है। सरकार का ध्यान भी इस और केंद्रित है कि कैसे युवाओ को आगे लाकर देश को विकास के पथ पर अग्रसर किया जाये।


सरकार द्वारा पेश की गई राष्ट्रीय युवा नीति-2014 का उद्देश्य “युवाओं की क्षमताओं को पहचानना और उसके अनुसार उन्हें अवसर प्रदान कर उन्हें सशक्त बनाना और इसके माध्यम से विश्वभर में भारत को उसका सही स्थान दिलाना है।" ज़िम्मेदार नागरिक के गुण और स्वयंसेवा की भावना उत्पन्न करने के उद्देश्य से युवा मामले विभाग ने विभिन्न कार्यक्रमों को कार्यान्वयित किया है।  भारत सरकार शिक्षा , स्वास्थ्य, कौशल विकास और नियोजन के क्षेत्र में युवा विकास पर लगभग 37,000 करोड़ रु और  इसके अतिरिक्त 55,000 करोड़ रु अन्य योजनाओं पर जिनका अधिकतर लाभार्थी युवा होता पर खर्च करती है। जो कुल मिलाकर लगभग 90,000 करोड़ होता है।
अब हम युवाओ की भी जिम्मेदारी बनती है के हम भी राष्ट्रनिर्माण में अपनी भूमिका सुनिश्चित करे। हमे एक साथ मिलकर राष्ट्र से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करनी चाहिये । और हम जिस भी स्तर पर हो जिस भी स्तिथि में हो अपना सहयोग सुनिश्चित करना चाहिये।
आप देश के लिये जो अच्छा कर सकते है अपने स्तर से करने का प्रयास करे और ऐसे लोगो को सहयोग करे जो राष्ट्रनिर्माण में अपनी भूमिका निभा रहे है। अगर हम अपने कार्ये को पूर्ण निष्ठा और ईमानदारी से करे तो ये भी अपने आप मे बहुत बड़ा योगदान होगा। किसी भी राष्ट्रहित के कार्ये को राजनीति के चश्मे से ना देखे। आप किसी भी विचारधारा , पंथ, सम्प्रदाय के हो  राष्ट्र के विषय मे अपने बीच किसी भी मतभेद को ना आने दे। 
अगर सरकार स्वच्छ्ता अभियान चलती है तो ये सोचो के क्या हमारे देश को इसकी जरूरत है क्या हमें स्वच्छ्ता चाहिय अगर हाँ तो उसमें सहयोग करो । ये मत देखो के इसे कौन शुरू कर रहा है। बस ये देखो के ये हमारे देश के लिये अच्छा है या नही।
अपने कर्तव्यों और अधिकारों को समझो और उनका सही से निर्वहन करे। देश के युवाओं को एक सजग, समझदार और जिम्मेदार नागरिक की भूमिका निभानी चाहिय । उसे अपनी जिम्मेदारी जैसे देश को स्वच्छ रखना, ईमानदार नागरिक बनना, न रिश्वत लेने और न ही देना, भ्रस्टाचार का साथ ना देना, सही वोट डालना, सामाजिक सहयोग को बढ़ाना, राष्ट्रहित में कार्ये करना आदि, को समझना चाहिए। अच्छा नागरिक वही है जो स्वयं जिम्मेदार बने और दूसरों को भी प्रेरित करे। युवा शक्ति देश की सबसे बड़ी शक्ति है। अगर युवा अपनी जिम्मेदारी समझेगे तो देश को आगे बढ़ने से कोई नही रोक सकता।
आओ मिलकर साथ चले राष्ट्रनिर्माण में अपना सहयोग दे।

19/5/18

कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या?

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
कर्नाटक में बना राजनेतिक संकट और सत्ता की लड़ाई और खीच तान कोई नई बात तो नही है मगर क्या सत्ता के लिये सवैधानिक पदों का दुरुपयोग और धन बल खरीद फ़रोख क्या ये लोकतंत्र के लिये सही है।क्या ये जो कर रहे है वो राष्ट्रहित में है ये मारामारी जनता की सेवा के लिये तो नही ये तो सिर्फ सत्ता सुख के लिये है। मगर लोकतंत्र का ये रूप लूटतंत्र ज्यादा दिखयी देता है। मगर इसके लिये क्या सिर्फ बीजेपी दोषी है नही इस घटिया राजनीति की नींव कांग्रेस ने ही रखी थी और इसकी शुरुआत तो आज़ादी के बाद बनी पहली नेहरू सरकार से ही शुरू हो चुकी थी। 
कांग्रेस ने गवर्नर के ऑफिस का इस्तेमाल करते हुए विरोधी सरकारों को बर्खास्त करने और विपक्षी दलों को सरकार बनाने से रोकने के कई कुकर्म किए हैं. 

1952 में पहले आम चुनाव के बाद ही राज्यपाल के पद का दुरुपयोग शुरू हो गया. मद्रास (अब तमिलनाडु) में अधिक विधायकों वाले संयुक्त मोर्चे के बजाय कम विधायकों वाली कांग्रेस के नेता सी. राजगोपालाचारी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया जो उस समय विधायक नहीं थे.
भारत में पहली बार कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार ईएमएस नम्बूदरीपाद के नेतृत्व में साल 1957 में चुनी गई. लेकिन राज्य में कथित मुक्ति संग्राम के बहाने तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने 1959 में इसे बर्खास्त कर दिया
1980 में इंदिरा गांधी ने जनता सरकारों को बर्खास्त कर दिया. गवर्नरों के माध्यम से अपनी पसंद की सरकार बनवाने का प्रयास केंद्र सरकारें करती रही हैं. संविधान के अनुच्छेद 356 का खुलकर दुरुपयोग किया जाता है.
सन 1992 में प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हाराव राव ने बीजेपी शासित चार राज्यों में सरकारें बर्खास्त कर दी थीं.
कर्नाटक में 1983 में पहली बार जनता पार्टी की सरकार बनी थी. रामकृष्ण हेगड़े जनता पार्टी की सरकार में पहले सीएम थे. इसके बाद अगस्त, 1988 में एसआर बोम्मई कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने. राज्य के तत्कालीन राज्यपाल पी वेंकटसुबैया ने 21 अप्रैल, 1989 को बोम्मई सरकार को बर्खास्त कर दिया. सुबैया ने कहा कि बोम्मई सरकार विधानसभा में अपना बहुमत खो चुकी है. बोम्मई ने विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल से समय मांगा, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया. बोम्मई ने राज्यपाल के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. फैसला बोम्मई के पक्ष में आया
वर्ष 1979 में हरियाणा में देवीलाल के नेतृत्व में लोकदल की सरकार बनी. 1982 में भजनलाल ने देवीलाल के कई विधायकों को अपने पक्ष में कर लिया. हरियाणा के तत्कालीन राज्यपाल जीडी तवासे ने भजनलाल को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया. राज्यपाल के इस फैसले से नाराज चौधरी देवीलाल ने राजभवन पहुंच कर अपना विरोध जताया था. अपने पक्ष के विधायकों को देवीलाल अपने साथ दिल्ली के एक होटल में ले आए थे, लेकिन ये विधायक यहां से निकलने में कामयाब रहे और भजनलाल ने विधानसभा में अपना बहुमत साबित कर दिया.
ये कुछ उदहारण है समझने के लिये के राजनीति के इस हमाम में सब नंगे है।
राजनीति का ये निचला सत्तर कोई नया नही है । मगर ये देश के लिये अच्छा नही है। क्योकि राजनीति में सत्ता का ये दुरुपयोग कब तानशाही बन जाये कहा नही जा सकता राजनीति की ये सोच ही इमरजेंसी के हालात पैदा करती है । 
मगर क्या है समाधान इस गिरते राजनीतिक स्तर का। क्या जनता के पास कोई अधिकार है या वो सिर्फ वोटबैंक ही है । क्या यही लोकतंत्र है?

click for our new blog

8/2/18

The true yoga

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

योग हजारो वर्षो से भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है। हमारे वेदों, पुराणों, उपनिषदों और अन्य मत्वपूर्ण ग्रंथों में योग का ज़िक्र मिलता है। और ऐसे भी कई ग्रंथ है जो पूर्ण रूप से ही योग को समर्पित है। परन्तु आज के आधुनिक युग मे योग, योगा बनकर सिर्फ एक शारीरिक प्रक्रिया तक ही सीमित हो गया है। कही रेतीले बिच पर तो कही गर्म  हवाओ के बीच कठिन आसन कराकर उसे ही योग के नाम पर बेचा जा रहा है। वो जीविकोपार्जन का माध्यम हो सकते है परन्तु योग नही। वास्तव में योग मात्र एक शारीरिक प्रक्रिया नही यह तो शारीरिक के साथ मानसिक, वैचारिक, दार्शनिक, आद्यात्मिक प्रक्रिया है या यूं कहें के परम्परा से चली आ रही एक उत्कृष्ठ जीवन शैली है। ये तो उत्तम जीवन जीने की एक कला है।
आप खुद विचार कीजिये यदि सिर्फ शरीर को लचीला बनाकर उसे तोड़ना, मोड़ना ही योग है तो क्या आप सड़क/सर्कस में करतब/ खेल दिखाने वाले जो एक छोटे से घेरे से अपने पूरे शरीर को निकाल लेते है? योगी है क्या वो योग कर रहे है? नही ना 
तो वास्तिविक योग है क्या और जिन आसनो को ही हम योग समझ रहे है वो क्या है?
वास्तव में आसन योग का एक महत्वपूर्ण अंग जरूर है परन्तु पूर्ण योग नही । योग के प्रमुख ग्रंथ महर्षि पतंजलि कृत योगसूत्र में आसन को समझते हुए कहा गया है।

                              स्थिरसुखमासनम्  (पतंजलि योग सूत्र 2 /46  )

अगर इसे समझे तो इसमें स्थिर , सुख और आसन है अर्थात जिस अवस्था मे सुखपूर्वक स्थिर राह सके  वही आसन है। अर्थात इसमें शरीर की स्थिरता और सुख महत्वपूर्ण है। आप चाहे कितना भी कठिन आसन लगये अगर उसमे स्थिरता नही सुख की अनुभूति नही वो आसन नही। वो व्यायाम हो सकता है । और दूसरी बात अगर आप आसन की अवस्था को भी प्राप्त कर लेते है तो वो सिर्फ आसन है योग नही । योग आसन का एक हिस्सा है योग नही।
वैसे तो हमारे ग्रंथो में योग के कई रूपो का वर्णन है जैसे राजयोग, कर्मयोग, भक्तियोग, लययोग, ज्ञानयोग, मंत्रयोग, हठयोग इत्यादि परंतु अगर सही अर्थों में कहे तो ये एक दूसरे से भिन्न जरूर दिखते है परन्तु ये सब एक ही है क्योकि इन सबका उद्देश्य एक ही है। साधारण शब्दो मे कहे तो ये एक मंजिल को प्राप्त करने के अलग अलग मार्ग है। किसी भी मार्ग पर चलकर योग के चरम को प्राप्त किया जा सकता है।
अगर हम राजयोग को माध्य्म बनाकर योग को समझे तो पतंजलि कृत योग सूत्र में योग के आठ अंग बातये है जिस कारण इसे योग भी कहते है।


इसमें यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रतिहार, धारणा, ध्यान और समाधि ये बातये है इसके अनुसार भी आसन मात्र एक अंग है। इसके साथ अन्य भागों को भी महत्व दिया जाना चाहिय।
पतंजलि योग सूत्र की ही योग की एक अन्य परिभाषा से  भी योग को समझने का प्रयास करते है

                  योगश्चित्तवृत्तिनिरोधः  (पतंजलि योग सूत्र 1 /2 )

चित्त की वृतियों के निरोध को ही योग कहते है। इस आधार पर भी योग शारीरक के साथ मानसिक प्रक्रिया है। क्योकि इसमें चित्त  है चित्त का तत्प्रय अन्तःकरण से है ।अर्थात मन, बुद्धि, अहंकार , आत्मा ये सभी चित्त का हिस्सा है। इस चित्त को ज्ञानेद्रियों द्वार ग्रहण किये गये विषयो से रोकना ही योग है। या कहे के चित्त की निर्मलता ही योग है इसी से कैवल्य की प्राप्ति होती है। और योग की सभी विधाएं चित्त की वृतियों को रोकने का माध्यम है। 
अर्थात जब तक मन मे सत्यता , पवित्रता, परोपकार इत्यादि गुण नही आ जाते तब तक योग संभव नही।

अतः योग तभी सिद्ध होगा जब वो जीवन मे उतर जाएगा। आपके जीवन , अचार - विचार का एक हिस्सा बन जायेगा। अगर योग करने के साथ आप भोगविलसित मे लगे है तो वो योग नही जीविकोपार्जन का एक माध्यम है जो मात्र एक शारीरिक व्यायाम है।


17/1/18

Know EPF, Employees' Provident Fund

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन सरकारी और गैरसरकारी दोनों कर्मचारियों के भविष्य को सुनिश्चित करने के उदेश्य से बना एक संगठन है।


कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की स्थापना 15 नवम्बर ,1951 को कारखानों और अन्य संस्थानों में कार्यरत संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के हितों की रक्षा के लिए की गयी थी | कर्मचारी भविष्य निधि कार्यालय के पास उन सभी कार्यालयों और कारखानों को रजिस्टर करना पड़ता है जहाँ पर 20 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं |  तथा आज के समय मे अगर आपका बेसिक 15000 से कम है तो EPF में शामिल होना अनिवार्य है। जब भी आप किसी  ऐसी संस्था में काम करते है जो EPFO के साथ पंजीकृत है | और आपकी तनख्वाह 15000 से कम है तब आपकी तनख्वाह का 12% काट कर epf में जमा किया जाता है, और साथ ही आपकी तनख्वाह का 12% जिस कंपनी या संस्था में आप काम करते हैं उनको  EPFO में जमा कराना पड़ता है | मगर यहाँ पर एक बात गौर करने वाली है की आपकी तनख्वाह से कटा हुआ 12% तो पूरा आपके EPF खाते में चला जाता है | लेकिन आपके कंपनी द्वारा 3.67% EPF में और 8.33% EPS (Employee Pension Scheme) में चला जाता है | और माना यदि आपकी बेसिक 10000 है तो आपकी कंपनी या नियोक्ता द्वारा 10000 का 8.33% यानि की 833 रु EPS में जमा किया जायेगा बाकी 367 रु EPF में चला जायेगा | यानी कुल 1200+367= 1567 EPF में और 833 EPS में जायेगा।
और  आप कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के सदस्य होते है अतः आप  कभी भी प्रोविडेंट फंड या पीएफ बैलेंस जान सकते हैं। इसके लिए आपको अपनी कंपनी या किसी अन्य व्यक्ति की जरुरत  नहीं , न ही कम्पनी  द्वारा साल के आखिर में पासबुक की कॉपी देने का इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा। आप जब चाहे अपना पीएफ बैलेंस की जांच कर सकते हैं। इसके लिए कर्मचारी चाहें तो EPFO की वेबसाइट, ऐप, एसएमएस या मिस कॉल देकर अपना पीएफ का बैलेंस जान सकते हैं। एपफओ की वेबसाइट से अपना बेलेन्स जाने का तरीका बहुत आसान है 
सबसे पहले epfindia.gov.in वेबसाइट पर जाएं। 


5/1/18

यथा दृष्टि तथा सृष्टि

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

जीवन जीने का वास्तविक तरीका यदि हम जान ले तो जीवन अपने आप सुन्दर हो जाएगा।
हम अक्सर देखते है कोई खुश है कोई दुःखी , कोई हँस रहा है कोई रो रहा है। दुनिया तो वही है एक जैसी परिस्तिथियों में भी किसी को दुःख तो किसी को सुख ?

वेदों में एक बहुत सुन्दर वाक्य है

"यथा दृष्टि तथा सृष्टि"
और यह हमारे जीवन का बहुत बड़ा वाक्य है। 

हमारी दृष्टि ही वास्तव में हमारी सृष्टि का निर्माण करती है। और हमारी दृष्टि का निर्माण या तो हमारे जीवन के पूर्व संस्कारो से होता है या हम अपनी इच्छा शक्ति से करते है।

28/12/17

Arunachalam Muruganantham, the first man to wear a sanitary pad. Padman

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
Arunachalam Muruganantham, the first man to wear a sanitary pad. Padman



अरुणाचलम मुरुगनाथं , पहला आदमी जिसने सैनिटरी पैड पहना ।  और कहलाया पैडमैन
हा दोस्तो आपने अक्षय कुमार की आने वाली फिल्म पैडमैन के बारे में तो सुना होगा जो 26 जनवरी को सिनेमाघरों में आ जायेगी। मगर क्या आप जानते है ये फ़िल्म सच्ची कहानी पर आधारित है ..ये कहानी है। हमारे देश के एक सामाजिक उधोगपति अरुणाचलम मुरुगनाथं जी की।
ये पहले आदमी है जिन्होंने सैनिटरी पैड को पहना । लोगो ने इन्हें पागल कहा मगर आज इनके पास पदमश्री पुरस्कार है और इनकी कहानी पर फ़िल्म बन चुकी है। इन्हें 14 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़नी पड़ी। इन्होंने खेतो में मजदूरी की और फिर ये इंसान 2014 में टाइम मैगजीन में छप गया। 2016 में इन्हें पदमश्री मिला।

18/12/17

Right to education, शिक्षा का अधिकार

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
Right to education, शिक्षा का अधिकार

शिक्षा जो हर सभ्य समाज की मुख्य जरूरत है ताकि वो समाज वास्तविक तरक्की , आर्थिक के साथ वैचारिक तरक्की कर सके।
परन्तु आज अगर हम अपने देश में शिक्षा की स्तिथि को देखते तो लगता नही के हमारी सरकारों ने कभी इसे गंभीरता से लिया। जितना देश आगे की तरफ बढ़ रहा है शिक्षा वयवस्था उतनी पीछे की तरफ जा रही है। एक तरफ वो प्राइवेट स्कूल है जो फीस के नाम पर बच्चे के माँ बाप का खून भी चूस जाये। तो दूसरी ओर वो सरकारी स्कूल है जहाँ शिक्षा का बस नाम ही रह गया है। 


संविधान के छियासिवे संसोधन अधिनियम 2002 ने भारत के संविधान में निहित अनुच्छेद 21A में मौलिक अधिकार के रूप में 6  से 14 वर्ष के सभी बच्चो के लिये मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा का प्रावधान किया तो 2009में शिक्षा का अधिकार कानून बनाया गया जिसमें निशुल्क और अनिवार्य बल शिक्षा अधिनियम 2009 में बच्चो का अधिकार जो 21A के तहत एकसमान गुणवक्ता वाली पुर्णकालिन प्राम्भिक शिक्षा प्रत्येक बच्चे का अधिकार है RTE अधिनियम जो 1 अप्रैल 2010 को लागू हुआ जिसमें निशुल्क और अनिवार्य शब्द जोड़ दिया गया।
इतना कुछ हुआ मगर कागजो में क्योकि सिर्फ कानून बनाने से क्या शिक्षा मिल गयी। जब हमारे देश के सरकारी स्कूलों में शिक्षक ही नही तो शिक्षा कहाँ से होगी सरकारी आकड़ो के अनुसार देश के प्राइमरी स्कूलों में लगभग 9 लाख शिक्षकों की कमी है । और ये कमी देश के लगभग हर राज्य में है।
और जो शिक्षक है भी उनमे कुछ  तो पढ़ाना नही चाहते । तो किसी को अन्य सरकारी कामो जैसे जनगणना , मतदान और मतगणना में लगा दिया जाता है। इसलिय सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या भी घटती जा रही है।

13/12/17

Reservation in India,आरक्षण कितना सही कितना गलत ?

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan


आरक्षण आज देश मे एक ज्वलंत मुद्दा बन रहा है आज देश के अलग अलग क्षत्रो में लोग आरक्षण के लिये आंदोलन करते दिख रहे है अजीब स्तिथि है देश की जहाँ लोग आगे आने के लिये काम करने के बजाय पिछड़ा बनने के लिये आंदोलन कर रहे है। कुछ राजनीतिक दल आज आरक्षण को हथियार की तरह इस्तेमाल कर रहे है। देश मे जगह जगह चलने वाले आंदोलन काफी हद्द तक तो राजनीतिक दलों के इशारो पर ही चलते है।
आरक्षण एक ऐसी दोधारी तलवार बन गया है जो इलेक्शन जीताता भी है और हरवाता भी है अजीब है ना जो एक समुदाय के उत्थान के लिये बना था आज राजनीत का मुद्दा बन गया है। जिसका मकसद सिर्फ अपनी राजनीतिक रोटियां सेकना है । किसी का विकास करना नहीं।
 स्वन्त्रता प्राप्ति के पश्चात भारत में दलितों एवं आदिवासियों की दशा अति दयनीय थी| इसलिए हमारे संविधान निर्माताओं ने काफी सोच समझकर इनके लिए संविधान में आरक्षण की व्यवस्था की और वर्ष 1950 में संविधान के लागू होने के साथ ही सुविधाओं से वंचित वर्गों को आरक्षण की सुविधा मिलने लगी, ताकि देश के संसाधनों, अवसरों एवं शासन प्रणाली में समाज के प्रत्येक समूह की उपस्थिति सुनिश्चित हो सके| उस समय हमारा समाज उच्च-नीच, जाति-पाति, छुआछूत जैसी कुरीतियों से ग्रसित था| 
स्वतंत्रता प्राप्ति के समय से ही भारत में अनुसूचित जातियों और जनजातियों के लिए सरकारी नौकरियां शिक्षा में आरक्षण लागू है| मंडल आयोग की संस्तुतियों के लागू होने के बाद वर्ष 1993 से ही अन्य पिछड़े वर्गों के लिए नौकरियों में आरक्षण की व्यवस्था कर दी गई| वर्ष 2006 के बाद से केंद्र सरकार के शिक्षण संस्थानों में भी अन्य पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण लागू हो गया| इस प्रकार आज समाज का बहुत बड़ा  तबका   आरक्षण की सुविधाओं का लाभ प्राप्त कर रहा  है, लेकिन इस आरक्षण नीति का परिणाम क्या निकला | ये भी सोचने का विषय है क्या ये सविधान में निहित उद्देश्यों को पा सका है। 

आरक्षण की शुरूआत देश को स्वतंत्रता मिलने से पहले ही हो गयी थी ब्रिटेन के प्रधानमंत्री रामसे मैकडोनाल्ड ने जब 1932 में भारत के दलित वर्ग और दूसरे पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण का प्रस्ताव रखा तो गांधी जी ने इसका कड़ा विरोध किया. उनका पक्ष ये था कि इससे हिन्दू समुदाय विभाजित हो जाएगा.
लेकिन डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर ने, जो दलित नेता  थे, इस प्रस्ताव को अपनी सहमति दी थी.


आख़िरकार दो बड़े नेताओं के बीच एक समझौता हुआ जिसके अनुसार दलितों के लिए आरक्षण स्वीकार किया गया. बाद में आरक्षण को स्वतंत्र भारत के संविधान में शामिल किया गया. संविधान ने सरकारी सहायता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं की खाली सीटों तथा सरकारी/सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों में SC  और ST  के लिए आरक्षण रखा था, जो पांच वर्षों के लिए था, उसके बाद हालात की समीक्षा किया जाना तय था। मगर यह अवधि नियमित रूप से आने वाली सरकारों द्वारा बढ़ा दी गयी ।
संविधान में दलितों के लिये आरक्षण को स्वीकार किए जाने के बाद ओबीसी के लिए आरक्षण का प्रस्ताव रखा गया.
इसके लिए दिसंबर 1978 में मंडल कमीशन का गठन हुआ. मंडल कमीशन ने ओबीसी के लिए आरक्षण की सिफ़ारिश की.
इन सिफ़ारिशों को भूतपूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने सरकार में आने के बाद लागू किया. इसके बाद अन्य वर्गों में भी आरक्षण का प्रावधान शुरू हो गया हालांकि सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा है कि आरक्षण किसी भी स्तिथि में 50 % से ज्यादा नही हो सकता हालांकि कुछ राज्यो में यह सीमा पर हो चुकी है।
भारत की जनसंख्या का बड़ा हिस्सा आरक्षण को ख़त्म करने की राय रखता है. कई लोगों का सवाल है कि आख़िर जाति के आधार पर आरक्षण कब तक जारी रहेगा
दूसरी ओर आबादी का एक बड़ा हिस्सा ऐसा भी है जो पिछड़ी जातियों को आरक्षण देने के पक्ष में है. उनका कहना है कि आरक्षण की ज़रूरत आज भी है
दोनों ही पक्षो की बात गौर करने लायक है क्योंकि जहाँ आरक्षण के कारण कई बार अयोग्य लोगों आगे निकल जाते है और योग्य पीछे रह जाते है तो दूसरी और सदियों से दबे , कुचले समुदाय के लिये उस भेदभाव को खत्म किये बिना आरक्षण को हटाना क्या सही है।
क्या आज समय नही आ गया है के आरक्षण की ईमानदारी से समीक्षा की जाए। और सबसे पहला पक्ष वही हो जो इसके उद्देश्य में था दलितों और पिछड़ों का उत्थान। क्या हम मौजूद  आरक्षण व्यवस्था से उस लक्ष्य को प्राप्त कर पाये अगर नही तो क्यों? क्या ऐसा तो नही के आज सक्षम लोग ही इसका लाभ उठा पा रहे है और पिछड़ा और गरीब दलित आज भी वही का वही पड़ा है ।क्या उसे सही मौका मिल पा रहा है तो क्यो ना एक ऐसी व्यवस्था बनाई जाय जिसमे जो सक्षम हो जाये, किसी सम्मनित पद पर आसीन हो, उच्च पदों पर पहुच गया हो उसे आरक्षण के दायरे से बाहर करे। क्योकि तब उसे आरक्षण देने का कोई मतलब नही। और साथ ही उसके हटने से आरक्षण की सुविधा उसी के  के समुदाय के निचले तबके तक पहुँच सकती है। क्योकि संसाधन सिमित है। 
मगर शायद किसी का मकसद दलितों और पिछड़ों का उत्थान है ही नही , कथाकतीथ पिछडो के नेताओ का मकसद भी सिर्फ उनके नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेकना है। क्योकि अगर नीयत सही होती तो ऐसा कोई कारण नही था के आज़ादी कर 70 साल बाद भी सभी पिछडो को मुख्य धारा में नही जोड़ पाते । देश और समाज का सबसे ज्यादा नुकसान इनके नाम पर होने वाली राजनीति और जातियो के नेता ही करते है। क्योंकि इनका मकसद सिर्फ सत्ता पाना ही रहता है।
एक और बहुत जरूरी बात है आरक्षण विरोधियों के लिये ज्यादातर लोग कहते है के उन्हें आरक्षण के कारण नोकरी या स्कूल कॉलेज में दाखिला नही मिल पाया । तो कुछ लोगो के लिये ये सही हो सकता है मगर सबके लिये नही क्योकि अगर एक बार आरक्षण हटा भी दे तो क्या सबको नोकरी मिल जायेगी। सोचिये जरा, नही ना क्योकि हमारे देश मे इतनी सरकारी नौकरियां है ही नही, यहाँ तो 100-200 पदों के लिये लाखो आवेदन आते है तो सोचिये सबको नौकरी और दाखिले कैसे मिल सकते है। आरक्षण की आड़ में तो हमारी सरकारें अपनी 70 साल की नाकामी को छुपाने के प्रयास करती है । के वो आज तक पर्याप्त अवसर पैदा ही नही कर पाये।
अगर हम कहते है के जातीय आधार पर आरक्षण खत्म कर देना चाहिये तो वो तब तक सम्भव नही जब तक हमारे समाज मे जातीय भेदभाव समाप्त नही हो जाता। तो इसके लिये हमारे समाज को हर तबके को इंसान के रूप में स्वीकर  करना होगा। भेदभाव को मन से मिटाना होगा तब हमें इस जातीय आरक्षण को पूर्ण रूप से समाप्त करने के बारे में सोचने का अधिकार होगा।
मगर साथ ही यदि आरक्षण के कारण अयोग्य लोग पदों पर आ जाते है तो वो भी गलत है सरकारों को किसी को कोई पद देने के लिये उसे उसके योग्य बनाने का प्रयास करना चाहिए ऐसा नही के 100 में से 0 वाले को भी सिर्फ इसलिये भर्ती कर लेते है कि उसकी सीट खाली है। 
साथ ही अगर हम अपने आज के समाज को देखे तो भेदभाव का जातियो के साथ साथ आर्थिक आधार भी हो गया है। क्योकि आज के दौर में गरीब भी मुख्य धरा से काट सा गया है ,और वो भी किसी अछूत से काम नही, तो क्यो ना आरक्षण को आर्थिक आधार पर लागू किया जाये। और साथ ही जातिय आरक्षण में भी आर्थिक स्तिथि को आधार बनाया जाए । जो सक्षम है अच्छी स्तिथि में है किसी उच्च पद पर है तो वो सामान्य ही है। अगर किसी प्रथम श्रेणी अधिकारी को आज भी लगता है के वो पिछड़ा है और उसके बच्चो को आरक्षण का अधिकार मिलना चाहिए तो मैं नही समझता के वो कभी मुख्य धारा में आ सकता है। या आरक्षण का उद्देश्य पूरा हो सकता है। क्योकि अगर उच्च पद पर आने के बाद भी वो पिछडा है तो उसका विकास कभी हो ही नही सकता। 
इसके लिये सामाजिक संघटनो और सरकारों को ईमानदारी से इसके लिये कार्ये करना होगा और समाज मे भेदभाव को खत्म करने का प्रयास करना होगा । मगर जो स्तिथ आज चल रही है तो उसमें तो समाज मे भेदभाव बढ़ ही रहा है। और शायद राजनीतिक दल अपने वोट बैंक के लिए विभिन्न समाजो के बीच बनती खाई को और ज्यादा गहरा करने का काम कर रहे है। तो उनसे तो ज्यादा उम्मीद करना गलत ही होगा। अब तो जिम्मेदारी आम नागरिकों की है के वो कैसा देश  चाहते है।

अच्छा लगे तो शेयर करे। उर अपने सुझाव कमेंट में जरूर बताये।

-AC


4/12/17

उत्तराखण्ड पलायन एक राष्ट्रीय समस्या

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
उत्तराखण्ड पलायन एक राष्ट्रीय समस्या 

उत्तराखंड भारत देश का एक छोटा सा राज्य अनेको धार्मिक स्थल सुन्दर मनोहर प्राकतिक दृश्य मगर अपने ही लोगो से वंचित। दशको तक चले आन्दोलन के बाद 9 नवम्बर 2000 को एक नया राज्य अस्तित्व में आया। आंदोलनकरियो और राज्य की आम जनता को लगा उनका बरसो का सपना साकार हो गया। अलग राज्य के बनने के बाद अब विकास की रेलगाडी पहाड़ो की ऊचाईयों तक पहुँच जाएगी। मगर आज 17 साल बाद भी हालत जस के तस है। पलायन आज भी बदस्तूर जारी है। 
उत्तराखंड सरकार  के अर्थ एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा जारी एक सरकारी आंकड़े के अनुसार जब से नए राज्य का गठन हुआ है तब से लेकर उत्तराखंड के 2 लाख 80 हजार से ज्यादा मकानों पर ताले लग चुके हैं। एक गैर सरकारी संस्था 'पलायन : एक चिंतन’ के द्वारा तैयार किए गए आंकड़ों के अनुसार राज्य बनने के बाद से 16 सालों में 32 लाख लोगों ने पहाड़ से पलायन कर चुके है। सरकार और विपक्षी पार्टियां इस पलायन और विस्थापन पर मौन साधे हुए हैं 

29/11/17

योग को जाने समझे (अष्टांग योग)

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan
     
                                                  योग को जाने समझे   (अष्टांग योग)

आज सभी लोग योग के नाम से परिचित होगे मगर जब भी योग शब्द का जिक्र आता है तो लोग उसे सिर्फ आसन या शारीरिक व्यायाम तक ही सीमित समझते है। मगर सिर्फ आसन ही योग नही है वो मात्रा योग का एक अंग है। महर्षि पतंजलि के अनुसार योग चित्तवृत्ति का निरोध  है

  " योगश्चितवृत्तिनिरोध:।"

 योगसूत्र के रचनाकार पतञ्जलि हैं। योगसूत्र में चित्त को एकाग्र करके ईश्वर में लीन करने का विधान है। पतंजलि के अनुसार चित्त की वृत्तियों को चंचल होने से रोकना (चित्तवृत्तिनिरोधः) ही योग है। अर्थात मन को इधर उधर भटकने न देना, केवल एक ही वस्तु में स्थिर रखना ही योग है।

28/11/17

What is Yoga ( astang yoga)

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

What is Yoga ( astang yoga)

Some time we refer yoga as the ashan or posture or physical exercise. but that asana and physical exercise are only a part of yoga which give strength to our body and makes us  free from many diseases .Maharishi Patanjali define yoga in his yoga shutra as follows

योग: चित्त-वृत्ति निरोध:
yogah citta-vṛtti-nirodhaḥ
 which means "Yoga is the inhibition (nirodhaḥ) of the "waves" or "disturbance" (vṛtti) of the "mind" or "consciousness” or “memory,” (citta)".Swami Vivekananda translates the sutra as "Yoga is restraining the mind-stuff (Citta) from taking various forms (Vrittis)."

In patanjali yoga shutra maharashi patanjali discribe eight limbs of yoga

Eight components or Limbs of yoga

In Patanjali yoga shutra there are eight limbs or aspects of yoga



1. Yamas

Yamas are ethical rules in meny religions like  Hinduism , Buddhism and Jainism and can be thought of as moral imperatives. Maharishi Patanjali listed The five yamas in Patanjali in Yogasutra 
  1. Ahiṃsā (अहिंसा): Nonviolence, non-harming other living beings
  2. Satya (सत्य): truthfulness, non-falsehood
  3. Asteya (अस्तेय): non-stealing
  4. Brahmacārya (ब्रह्मचर्य): chastity, marital fidelity or sexual restraint
  5. Aparigraha (अपरिग्रहः): non-avarice,non-possessiveness
Patanjali,  states how and why each of the above self restraints help in the personal growth of an individual. 

2. Niyama

The second Limbs of Patanjali's Yoga path is called niyama, which includes habits, behaviors  the niyamas are
  1. Saucha: purity, clearness of mind, speech and body
  2. Santoṣa: satisfaction ,contentment, acceptance of others,  optimism for self
  3. Tapas: persistence, perseverance
  4. Svadhyaya: study of Vedas and other knowledgeable books, study of self, self-reflection, introspection of self's thoughts, speeches and actions
  5. Isvarapraṇidhana: contemplation of the Ishvara (God/Supreme Being, True Self)

As with the Yamas, Patanjali explains how and why each of the above Niyamas help in the personal growth of an individual

3. Asana

Patanjali begins discussion of Asana (आसन, posture) by defining it  as follows
स्थिरसुखमासनम् ॥४६॥
 An asana is what is steady and pleasant.
Asana is thus a posture that one can hold for a period of time, staying relaxed, steady, comfortable and motionless. Patanjali does not list any specific asana, except the suggestion, "posture one can hold with comfort and motionlessness".  The posture that causes pain or restlessness is not a yogic posture. Other secondary texts studying Patanjali's sutra state that one requirement of correct posture is to keep breast, neck and head erect (proper spinal posture)
yoga scholars developed, described and commented on numerous postures. Padmasana (lotus), Veerasana (heroic), Bhadrasana (decent)
The Hatha Yoga Pradipika describes the technique of 84 asanas, stating four of these as most important: Padmasana (lotus), Bhadrasana (decent), Sinhasana (lion), and Siddhasana (accomplished).


according to some text lord shiva discribed 84 lakh ashan

4. Praṇayama

Praṇayama is made out of two Sanskrit words praṇa (प्राण, breath)  and ayama (आयाम, restraining, extending, stretching)
After a desired posture has been achieved, the next limb of yoga, praṇayama, which is the practice of consciously regulating breath (inhalation and exhalation) This is done in several ways, inhaling and then suspending exhalation for a period, exhaling and then suspending inhalation for a period, slowing the inhalation and exhalation, consciously changing the time/length of breath (deep, short breathing)

5. Pratyahara

Pratyahara is a combination of two Sanskrit words prati- (the prefix प्रति-, "towards") and ahara (आहार, "bring near")
Pratyahara is bringing near one's awareness and one's thoughts to within. It is a process of withdrawing one's thoughts from external objects, things, person, situation. It is turning one's attention to one's true Self, one's inner world, experiencing and examining self. It is a step of self extraction and abstraction. Pratyahara is not consciously closing one's eyes to the sensory world, it is consciously closing one's mind processes to the sensory world. Pratyahara empowers one to stop being controlled by the external world, and take one's attention to seek self-knowledge and experience the freedom innate in one's inner world

6. Dharaṇa

Dharana (Sanskrit: धारणा) means concentration, introspective focus 
Dharana as the sixth limb of yoga, is holding one's mind onto a particular inner state, subject or topic of one's mind. The mind (not sensory organ) is fixed on a mantra, or one's breath or any part of body, or an object one wants to observe,  Fixing the mind means one-pointed focus, without drifting of mind, and without jumping from one topic to another.

7. Dhyana

Dhyana (Sanskrit: ध्यान) simply known as meditation literally means "profound contemplation"
Dhyana is contemplating, reflecting on whatever Dharana has focused on. If in the sixth limb of yoga one focused on a personal deity, Dhyana is its contemplation. Dhyana is uninterrupted train of thought, current of cognition, flow of awareness.
Dhyana is integrally related to Dharana, one leads to other. Dharana is a state of mind, Dhyana the process of mind. Dhyana is distinct from Dharana in that the meditator becomes actively engaged with its focus. Patanjali defines contemplation (Dhyana) as the mind process, where the mind is fixed on something, and then there is "a course of uniform modification of knowledge".  Dhyana is the yoga state when there is only the "stream of continuous thought about the object, uninterrupted by other thoughts of different kind for the same object"; Dharana, states is focussed on one object, but aware of its many aspects and ideas about the same object. 

8. Samadhi


Samadhi (Sanskrit: समाधि) literally means "putting together, joining, combining with, union, harmonious whole, trance"
Samadhi is oneness with the subject of meditation. There is no distinction, during the eighth limb of yoga, between the actor of meditation, the act of meditation and the subject of meditation. Samadhi is that spiritual state when one's mind is so absorbed in whatever it is contemplating on, that the mind loses the sense of its own identity. The thinker, the thought process and the thought fuse with the subject of thought. There is only oneness, samadhi.

yoga is a group of physicalmental, and spiritual practices or disciplines. Yoga has been studied and may be recommended to promote relaxation, reduce stress and improve some medical conditions . In today's age yoga is adopted as holistic health care. There are many yoga school in India. 

check our dedicated yoga blog
feedback


19/11/17

वीरो के बलिदानों को समझे

वीरो के बलिदानों को समझे

जो  तन   मन  से  हुए  गुलाम ।
वो वीरो के बलिदानों को क्या समझेगे।।
स्वीकार की जिन्होंने दस्ता मुगलो की ।
वो पद्मावती के जौहर को क्या समझेगे।।
चंद रुपियो में बिकने वाले।
शौर्ये और स्वभिमान को क्या समझेगे।।
विरोधी नही किसी नेता और अभिनेता के।
मगर वीरो के बलिदानों का अपमान नही सहेंगे।।
वीरो के लहू से सिंचित ये भारत भूमि।
इस भूमि के वीरो का उपहास नही सहेंगे।।
पुरखो ने तुम्हारे झुकाकर सर अपना सुख बचाया।
वीरो ने कटा कर सर, अपना स्वाभिमान बचाया।।
रक्त शिराओ में हमारी भी बहता है उन वीरो का।
स्वाभिमान की रक्षा को प्राण न्यौछावर से भी नही डरेंगे।।
चंद रुपयों की खातिर जो माँ को भी गली दे देते है।
क्या वो अब हमें इतिहास का पाठ पढ़ाएंगे।।
किताबो के पन्नो की मोहताज नही वीरो की गाथायें।
राष्ट्रभक्तो के रोम रोम में बसी साहस अदम्य की शौर्ये कथाएँ।।
राष्ट्र की खातिर अपने बेटों को कुर्बान करने वाली माताओ की गौरव गाथाएँ।
सत्ता की खातिर अपने बापो को नजरबंद करने वालो के वंसज क्या समझेगे।।
माना के तुमने खूब पसीना बहा एक फ़िल्म बनाने में।
मगर उन वीरो ने अपना रक्त बहा ये राष्ट्र बनाने में।
चंद रुपयों की खातिर घटिया काम ना करो।
वीरो का इस भारत भूमि के तुम अपमान ना करो।

28/10/17

how to make thread on nut and bolt

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

Before Understanding threading operations we need to know something about thread , it's type, nomenclature etc.
Thread is a helical groove on a cylindrical surface outside or inside. It is used to make threaded fasteners.
Nomenclature of thread is as following



1. Pitch - it is the distance between two corresponding points on the consecutive thread.

2.Crest- it is the top surface joining the two sides of a thread.

3. Root - The bottom surface joining the two sides of a thread.

4. Depth of Thread - it is the distance measured perpendicular to the axis between Crest and root.

5. Thread angle-  it is the angle between the flanks measured in an axial plant.

6. Flank- it is the surface between the Crest and the root if the thread.

7.Lead- In single start thread lead is the axial advance nut in one complete turn. And is equal to the pitch and in double start thread lead is twice the pitch.

8. Major diameter-  it is also called outside of nominal diameter is the largest diameter of a screw thread.

9. Minor diameter- it is also called root or core diameter. It is smaller diameter external or internal thread.

10. Pitch diameter- it is called effective diameter it is the diameter of an imaginary cylinder, on a cylindrical screw . In a nut and bolt assembly, it is the diameter at which the ridges on the bolt are in complete touch with the ridges of the corresponding nut.

11. Single start thread- when all the thread are built ona single helix it is called single start thread or single thread.

12.Double start thread- whan a thread has two starting point and two equally spaced thread are wrapped with two parallel helices.

13. Multi start thread- when quick advance is required multi thread are used in this two or more then two thread are cut side by side.pitch remain fixed for a particular types of thread.

Types of thread


1. B. S. W ( British Standard Thread) -The BSW basic thread form is a symmetrical V thread in which the angle between the flank , measured in an axial plane, is 55° thread is rounded equally at roots and Crest.

2. B. A. ( British Association) Standard Thread- The basic thread form ia a symmetrical V thread with angle between flank are 47.5°

3. Unified screw thread- This thread system has angle of flank at 60* and on bolt is rounded at Crest and root but in nut rounded off at the root only.

5. American Standard Thread- it is also called seller's thread it used for general purpose. It has flat top and bottom with angle of 60° at flank.

6. Square thread- it is used for power transmission like in screw jacks . It is flat at root and top with flat flank.

7.matric thread- it is basic V thread and defined by nominal size and pitch both expressed in matric ( milimete)

8.ACME Thread- it is the modified form of square thread . It stronger than square thread . It has a 29° thread angle and is flat at top and bottom.

9.Buttress thread- it is used when power is to transmitted in one direction.the force is transmitted almost parallel to the axis and the thread is about the same strength and the standard V thread . Bench vice are usually fitted with spindle having buttress thread.

10. Knuckle thread- it is the modified square thread . It has round top and bottom and can be made on a machine. It is not easily damaged When subjected to rough usage.

How to make thread

There are many process to make thread thread can be made on machine or by hand tools.

1. External thread cutting on lathe- lathe is a conventional machine on which we can cut thread also .watch video


2. External thread cutting by die- die is a hand tool to cut the thread .  it is a tool which is used with a handle to cut the thread.watch  video


3. External thread cutting by rolling-rolling is a thread forming process this is the process in which thread is rolled on the job by a forming tool . watch video


4. Internal thread cutting by tapping-  tap is a hand tool to make internal thread it can be used by a hand with a tap handle on can use by a machine also. Before cutting thread by tap we need to make desired hole by drilling.

-AC