Featured post

भारतीय दर्शन और आधुनिक विज्ञान

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan भारतीय दर्शन विश्व के प्राचीनतम दर्शनो में से एक है इसमें अनेक वैज्ञानिक सिंद्धान्तो को प्रतिपादि...

क्या कपालभाति प्राणायाम है?

कोशिश .....An Effort by Ankush Chauhan

आज के समय मे कपालभाति को प्राणायाम के रूप में अत्यधिक प्रचलित किया जा रहा है जिसमे श्वास को तेजी से बाहर की ओर फेका जाता है। क्या वास्तव में ये प्राणायाम है? कुछ बड़े योगा गुरु भी इसे अत्यधिक प्रचारित कर रहे है जो कभी कभी मूर्खतापूर्ण प्रतीत होता है।
इसको समझने के लिए हमे सबसे पहले प्राणायाम को समझना होगा कि आखिर प्राणयाम है क्या?
               
                                   " प्राणस्य आयाम: इति प्राणायाम:”

जिसका अर्थ है की प्राण का विस्तार ही प्राणायाम कहलाता है | साधारण शब्दों में समझे तो प्राणों का लंबा करना अर्थात श्वास - प्रस्वाश का जो चक्र है उसके समय को बढ़ाना परन्तु जिस क्रिया को कपालभाति प्राणायाम के रूप में प्रचारित किया जा रहा है उसमें हो क्या रहा है।

अब हम योग के सबसे प्रमाणिक ग्रंथ पतंजलि योग सूत्र में प्राणायाम को परिभाषित करते हुए क्या कहा गया है उसे जानते है।
                                  " तस्मिन्सति श्वास प्रश्वास योगर्ती विच्छेद: प्राणायाम: "

अर्थात आसन की सिद्धि होने के बाद श्वास – प्रश्वास की जो गति है उसे विच्छेद करना |  यह भी उसी पूर्व के अर्थ की और संकेत करता है
इसका अर्थ है श्वास की गति को तेज करना किसी भी प्रकार से प्राणायाम नही है वह जो भी क्रिया हो वह प्राणायाम तो नही।
अब आते है दूसरे विषय पर कि क्या ये श्वास की गति को तेज करना कपालभाति है तो इसके लिए हम जानना जरूरी है कि कपालभाति है क्या कपालभाति शब्द का उल्लेख घेरण्ड सहिंता में मिलता है घरेण्ड सहिंता महर्षि घरेण्ड रचित हठ योग का एक ग्रंथ है जिसमे षट्कर्म के अंतर्गत इसका वर्णन है।
वो 6 क्रिया है
1.धौति 2.वस्ति 3. नेति 4.लोलिकी 5. त्र्याटक 6. कपालभाति
तो घरेण्ड सहिंता में कपालभाति का जो वर्णन है अब उसे भी जान लेते है।
                              " वातक्रमेण व्युत्क्रमेण शीत्क्रमेण विशेषतः ।
                                 भालभातिं त्रिधा कुर्यात्कफदोषं निवारयेत् ।। 55।। "

भावार्थ :- भालभाति ( कपालभाति ) क्रिया के वातक्रम, व्युत्क्रम व शीतक्रम नामक तीन विशेष प्रकार हैं । जिनका अभ्यास करने से साधक के सभी कगफ रोगों का निवारण ( समाप्त ) हो जाता है ।
घेरण्ड संहिता में कपालभाति क्रिया के तीन प्रकारों का वर्णन किया गया है । जिनका क्रम इस प्रकार है :-
1. वातक्रम कपालभाति, 2. व्युत्क्रम कपालभाति, 3. शीतक्रम कपालभाति ।

1. वातक्रम कपालभाति
                                       " इडया पूरयेद्वायुं रेचयेत्पिङ्गलया पुनः ।
                                         पिङ्गलया पूरयित्वा पुनश्चन्द्रेण रेचयेत् ।। 56।। "

 भावार्थ :- इड़ा नाड़ी ( बायीं नासिका ) से श्वास को अन्दर भरें और पिंगला नाड़ी ( दायीं नासिका ) से श्वास को बाहर निकाल दें । फिर पिंगला नाड़ी ( दायीं नासिका ) से श्वास को अन्दर भरकर इड़ा नाड़ी ( बायीं नासिका ) से श्वास को बाहर निकाल देना ही वातक्रम कपालभाति होता है ।

2.व्युत्क्रम कपालभाति
                                           " नासाभ्यां जलमाकृष्य पुनर्वक्त्रेण रेचयेत् ।
                                             पायं पायं व्युत्क्रमेण श्लेषमादोषं निवारयेत् ।। 58। "

भावार्थ :- नासिका के दोनों छिद्रों से पानी को पीकर मुहँ द्वारा बाहर निकाल दें और फिर उल्टे क्रम में ही मुहँ द्वारा पानी पीकर दोनों नासिका छिद्रों से पानी को बाहर निकाल दें । इस व्युत्क्रम कपालभाति द्वारा साधक के सभी कफ जनित रोगों का नाश होता है ।

3.शीतक्रम कपालभाति
                                                 "शीत्कृत्य पीत्वा वक्त्रेण नासानालैर्विरेचयेत् ।
                                                    एवमभ्यासयोगेन कामदेवसमो भवेत् ।। 59।। "

 भावार्थ :- शीत्कार की आवाज करते हुए मुहँ द्वारा पानी पीकर नासिका के दोनों छिद्रों से बाहर निकाल दें । यह प्रक्रिया शीतक्रम कपालभाति कहलाती है । इसका अभ्यास करने से योगी का शरीर कामदेव की भाँति अत्यंत सुन्दर हो जाता है ।
अब अगर हम समझे तो इस हिसाब से तो श्वास को तेजी से बाहर फेकने वाली क्रिया कपालभाति भी नही है।

तो अब यही निष्कर्ष निकलता है कि तेजी से श्वास फेकना ना तो प्राणायाम है ना ही कपालभाति अब जो इसे प्राणायाम कह रहे है उन्ही से सवाल पूछना होगा कि वो इसे किस आधार पर ऐसा कह रहे है।

for more about yoga visit Us  At Yoga Life



No comments:

Post a comment